top of page

पंछी हूँ

पंछी हूँ

उड़ने दो मुझको

पिंजरों में ना क़ैद करो


उड़ना तो है स्वभाव मेरा

हवा से लड़ना मक़सद मेरा

ना है घर

ना ही ठिकाना मेरा

क्योंकि

पंछी हूँ

उड़ने दो मुझको

पिंजरों में ना क़ैद करो


सरहद भी न रोके मुझको

रस्ते गलियों की ना परवाह मुझको

कसमे वादों से क्या लेना है

मुझको तो बस उड़ते रहना है

क्योंकि

पंछी हूँ

उड़ने दो मुझको

पिंजरों में ना क़ैद करो


ये दुनिया साज़िश रचेगी

पिंजरों में क़ैद करेगी

मुझको ना क़ैद होना है

आसमां में खोना है

क्योंकि

पंछी हूँ

उड़ने दो मुझको

पिंजरों में ना क़ैद करो


अनुभव पांडे


Poetically by https://instagram.com/anubhav_writes?igshid=hcu2h8jiqlb5





0 comments
bottom of page